ई रूपी क्या है? e-RUPI डिजिटल पेमेंट कैसे काम करता है

e rupi

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 9 अगस्त 2021 को ई रूपी (e RUPI) सेवा की शुरुआत की थी। इस लेख में जानेंगे कि ई रूपी क्या है और इससे आम लोगों को क्या सुविधाएँ व लाभ मिलेंगे, तो पूरी जानकारी के लिए हमारे साथ बने रहिये –

ई रूपी (e-RUPI) क्या है?

ई रूपी का फुल फॉर्म इलेक्ट्रॉनिक रूपी यूपीआई होता है। इसके माध्यम से सेवा प्रदाता या लाभार्थी पैसों के लेन देन को कैशलेस और सपर्क रहित रूप से कर कर सकते हैं। e-RUPI के अंतर्गत किये जाने वाले लेन देन में इलेक्ट्रॉनिक बाउचर का इस्तेमाल किया जाता है। यह इलेक्ट्रॉनिक एक क्यू आर कोड या कूपन कोड के रूप में हो सकता है। जिसको बिना इन्टरनेट कनेक्शन के लाभार्थी द्वारा रिडीम किया जा सकता है। इसकी खास बात ये है कि इसमें इन्टरनेट का होना अनिवार्य नहीं होता है।

e rupi

ये भी पढ़ें 👉 पीएम किसान की किस्त कब आएगी?

क्यों शुरू किया गया है ई रूपी को –

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा ई रूपी सर्विस को शुरू करने का उद्देश्य विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं का लाभ आम लोगों तक बिना किसी घोटाले या चोरी हुए बिना सीधे लाभार्थियों तक पहुँचाना है। हालाँकि ई रूपी सेवा का उपयोग व्यक्तिगत या प्राइवेट कंपनियों द्वारा भी अब किया जा सकता है। ये सुविधा UPI की तरह सभी देश वाशियों के लिए चालू कर दी गयी है।

ई रूपी डिजिटल पेमेंट की नयी अपडेट –

  • रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया ने ई रूपी प्रीपेड पेमेंट वाउचर की लिमिट को 10 हजार से बढ़ाकर 1 लाख रुपये तक कर दिया है।
  • अब भारत सरकार इसका उपयोग विभिन्न सरकारी योजनाओं में कई बार कर सकती है।
  • NPCI ने ई-रूपी वाउचर के लिए 11 बैंकों से समझौता किया है. इनमें SBI, HDFC Bank, Axis Bank, BoB, Canara Bank, ICICI Bank आदि शामिल हैं।
  • ई रूपी वाउचर का इस्तेमाल अब बहुत से अस्पतालों में शुरू हो चुका है।

ये भी पढ़ें 👉 वरिष्ठ नागरिक बचत योजना क्या है?

e-RUPI सर्विस की विशेषताएं –

  • ई रूपी लेन-देन में लाभार्थियों के मोबाइल नंबर पर एक कूपन कोड या क्यू आर कोड भेजा जाता है।
  • यह सेवा उपयोग करने के लिए किसी मोबाइल ऐप, इन्टरनेट कनेक्शन या कार्ड का होना आवश्यक नहीं है।
  • इसे नेशनल पेमेंट कारपोरेसन, वित्तीय सेवा विभाग व स्वास्थ्य परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा तैयार किया गया है।
  • ई रूपी का उपयोग करने के लिए लाभार्थी या सेवा प्रदाताओं के पास किसी फिजिकल इंटरफ़ेस की आवश्यकता नहीं पड़ती।
  • इसका उपयोग भारत सरकार विभिन्न स्वास्थ्य व सब्सीडी सेवाओं में करेगी।

ई रूपी के लाभ –

  1. इस सर्विस से केंद्र व राज्य सरकारें विभिन्न योजनाओं का लाभ लीक प्रूफ तरीके से लाभार्थियों तक पहुंचाएंगी
  2. इन्टरनेट न चलाने वाले लोग भी अब ई रूपी के माध्यम से पैसों का लेन देन कर सकेंगे
  3. स्वास्थ्य, उर्वरक सब्सीडी व विभिन्न योजनाओं का लाभ आसानी से पात्र लोगों तक पहुँच सकेंगा
  4. यूपीआई के आलावा अब लोगों के पास एक और पेमेंट गेटवे होगा।

 

ये भी पढ़ें 👉 मुद्रा योजना लोन कैसे लें?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *