Fit India Movement 2020 | Download Fitness Protocol PDF in Hindi

दोस्तों, Fit India Movement की शुरुआत 29 अगस्त 2019 को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी द्वारा की गयी थी। अब इस मुहिम को शुरू हुए एक साल अधिक बीत चुके हैं।  दोस्तों इस पोस्ट में हमने फिट इंडिया मूवमेंट और फिटनेस प्रोटोकॉल से जुड़ी जरुरी जानकारियां आपके साथ साझा की हैं। साथ ही Fitness Protocol की हिंदी PDF डाउनलोड करने का लिंक भी दिया है।

Fit India Movement 2020

आपको बता दें कि फिट इंडिया मूवमेंट की शुरुआत हाकी में 3 बार गोल्ड मेडल जीतने वाले मेजर ध्यानचंद के जन्मदिन के दिन यानी 29 अगस्त को शुरू किया गया था। इस वर्ष (2020) को देश, फिट इंडिया मूवमेंट अभियान की पहली सालगिरह मना रहा है।

24 सितम्बर 2020 को प्रधानमंत्री ने फिट इंडिया डायलॉग कार्यक्रम के माध्यम से देश वाशियों को फिट रहने के लिए कई महत्वपूर्ण और रोचक बातें कही। इस कार्यक्रम में क्रिकेटर विराट कोहली, फिटनेस आइकॉन मिलिंद सोमन, विशेषज्ञ रुजुता दिवेकर, मुकुल कानिटकर, फुटबालर अफसा आसिफ, पैरा ओलंपिक प्लेयर देवेन्द्र झाझरिया आदि लोग विडियो कांफ्रेंशिंग के जरीय जुड़े। सभी ने अपने नजरिये से शारीरिक और मानसिक फिटनेस का महत्व बताया।

Fit India Fitness Protocols क्या है?

दोस्तों प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 24 सितम्बर को देश में फिट इंडिया अभियान को सफल बनाने के लिए फिटनेस प्रोटोकॉल लांच किया था। इसमें पांच साल से लेकर सभी आयु वर्ग के लिए स्वास्थ्य सम्बन्धी दिशानिर्देश दिए गए हैं। जैसे योग, व्यायाम, प्राणायाम या खान-पान में संतुलन और समय निर्धारण आदि की जानकारी।

फिटनेस प्रोटोकॉल को समझकर उसका सही पालन करना आपकी जिम्मेदारी है। सरकार की तरफ इसकी कोई जोर जबरदस्ती नहीं है। फिटनेस प्रोटोकॉल का पालन कर अपने स्वास्थ्य के प्रति लोगों को सचेत और सजक बनाना फिट इंडिया मुहिम का लक्ष्य है।

Fit India Movement Highlights

अभियान का नाम फिट इंडिया मूवमेंट
कब शुरू हुई 29 अगस्त 2019
किसने शुरू किया प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी
लक्ष्य देश के सभी नागरिकों को स्वस्थ बनाना
ऑफिसियल वेबसाइट https://fitindia.gov.in/

Fitness Protocol PDF Download in Hindi

फिट इंडिया के सपने को पूरा करने के लिए मोदी सरकार ने Fitness Protocol शब्द का प्रयोग करते हुए सभी आयुवर्गों के लोगों के लिए PDF जानकारी तैयार की है। इसमें 5 से 18 वर्ष , 18 से 65 वर्ष और 65 या उससे आधिक वर्ष की आयु वाले सभी लोगों के लिए फिटनेस पाने के लिए जरुरी व्यायाम, योग और प्राणायामों के बारे में समझाया गया है।

5 से 18 वर्ष आयु वर्ग के लिए फिटनेस प्रोटोकॉल –

अच्छे स्वास्थ्य का आधार यही बचपन से ही रखा जाय तो युवा अवस्था में फिटनेस पाना और भी आसान हो जाता है। इसी लिए सरकार ने 5 से 18 वर्ष के बच्चों के लिए अलग से फिटनेस नियमों का प्रोटोकॉल तैयार किया है।

⇒डाउनलोड फिटनेस प्रोटोकॉल PDF (आयु 5-18)

18 से 65 वर्ष आयु वर्ग के लिए फिटनेस प्रोटोकॉल –

18 वर्ष से 65 वर्ष के आयु तक के लोगों को क्या व्यायाम, योग या प्राणायाम करना है। इनकी जानकारी सरकार द्वारा जारी किये गए फिटनेस प्रोटोकॉल में दी गयी है। नीचे दी गयी लिंक से डाउनलोड करें।

⇒डाउनलोड फिटनेस प्रोटोकॉल PDF (आयु 18-65)

65 या उससे आधिक आयु वर्ग के लिए फिटनेस प्रोटोकॉल –

बुजुर्गों को स्वास्थ्य के प्रति सजक रहने और नियमित फिटनेस प्रोटोकॉल का पालन करने के लिए सरकार ने अलग से एक नियमावली निकाली है। इसको आप नीचे दी गयी लिंक से डाउनलोड कर सकते हैं।

⇒डाउनलोड फिटनेस प्रोटोकॉल आयु 65 वर्ष से अधिक 

Fit India Dialogue कार्यक्रम की खास बातें

प्रधानमंत्री जी ने कहा कि यदि सभी देशवासी फिटनेस के प्रति सजक हो जाएँ तो भारत देश को विकसित होने से कोई नहीं रोक सकता। उन्होंने सभी से अपील की कि प्रतिदिन आधा से 1 घंटा फिटनेस एक्टिविटी के लिए जरुर दें। यह आपको जीरो निवेश से भी जिंदगी भर फायदा देगा। मोदी जी ने ईंट लोकल थिंक ग्लोबल की बात कही। उन्होंने बताया की उनकी माँ उनसे हल्दी लेने और स्वास्थ्य के प्रति सक्रीय रहने को हमेशा कहती हैं। साथ ही प्रधानमंत्री ने बताया कि वह हफ्ते में एक या दो बार सहिजन या मोरिंगा के पराठे खाते हैं।

विराट कोहली का विचार फिटनेस के प्रति रोचक रहा। उन्होंने कहा की वह फिटनेस सेशन को प्रैक्टिस सेशन से जादा महत्वपूर्ण मानते हैं। समय के साथ उन्होंने अपनी सोंच और फिटनेस पर बराबर ध्यान देने की बात कही। क्यों कि आपकी सोंच चाहे जितनी अच्छी क्यों न हो शारीरिक स्वास्थ्य के बिना अच्छा परिणाम पाना असंभव है।

मुकुल कानिटकर ने प्रधानमंत्री को सूर्य नमस्कार और योग को देश का अहम् हिस्सा बताने और करने के लिए प्रेरित करने के लिए धन्यवाद दिया। साथ ही उन्होंने योग और प्राणायाम को जीवन का अभिन्न अंग बनाने पर जोर दिया।

रुजुता दिवेकर ने अपने विचार प्रस्तुत करते हुए कहा की हमें अपने दादी, नानी या बड़े बुजुर्गों के पुराने खान पान के तरीकों को अपनाना चाहिए। इससे हम शारीरिक रूप से स्वस्थ रह सकते हैं। और लोकल फ़ूड खाने से हमारे किसानों और व्यापारियों भी मुनाफा होगा।

⇒आयुष्मान भारत अभियान को जाने

Fit India Movement का उद्देश्य

  • देश के नागरिकों को अपने स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करना।
  • अपनी नियमित दिनचर्या में कम से कम आधा घंटे योग, प्राणायाम और व्यायाम को शामिल करना।
  • अपने खान पान के स्तर को सुधारना और देशी खाने का सदुपयोग करना।
  • देश में स्वास्थ्य स्तर को बढ़ाना जिससे देश का तेजी से विकास हो सके।
  • फिट इंडिया मूवमेंट को सक्रियता से जन आन्दोलन बनाना जिससे इसे सभी देशवासी अपनाएं और स्वस्थ बने।

फिट इंडिया मूवमेंट के लाभ

  • देश का प्रत्येक व्यक्ति यदि फिट इंडिया मूवमेंट में सामिल हो कर फिटनेस को पाने के लिए फिटनेस प्रोटोकॉल्स का पालन करे तो देश में स्वास्थ्य दर निश्चित तौर पर सुधर जाएगी।
  • प्रतिदिन फिटनेस को दिनचर्या में शामिल करने की परंपरा बन जाएगी।
  • बीमारियों से लड़ने की क्षमता बढ़ेगी।
  • स्वस्थ समाज का विकास और देश की तरक्की संभव होगी।

Why Fit India Movement is Important

अक्सर देखा जाता है की लोग अपनी भाग दौड़ भरी जिंदगी में स्वास्थ्य के प्रति ध्यान नहीं देते, जिसकी वजह से उन्हें बड़ी बड़ी बीमारियों का सामना करना पड़ता है। विशेषज्ञों का मानना है की यदि प्रत्येक व्यक्ति प्रतिदिन आधे से एक घंटे फिटनेस पर ध्यान दे तो वह जीवन भर स्वस्थ रह सकता है। इसीलिए प्रधानमंत्री मोदी जी ने फिट इंडिया मूवमेंट की शुरुआत की है। यह अभियान पूरे देश के विकास के लिए अतिमहत्वपूर्ण है।

फिटनेस का डोज आधा घंटा रोड अभियान

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *