Five Star villages Scheme 2021 | जाने इस योजना के उद्देश्य, विशेषताएं और लाभ

भारतीय डाक विभाग ने Five Star villages Scheme की शुरुआत 10 सितम्बर 2020 को की थी। इस योजना को ग्रामीण इलाकों में सक्रीय डाक सेवाओं के माध्यम से सरकारी योजनाओं का लाभ लोगों तक पहुँचाने के लिए तैयार किया गया है। इससे देश के सुदूर ग्रामीण इलाकों में भी डाक विभाग की सक्रियता और सार्वभौमिकता सुनिश्चित होगी। इस पोस्ट में हमने फाइव स्टार गाँव योजना से जुड़ी सभी जरुरी जानकारियां Hindi में आपके साथ साझा की हैं –

Five Star village Scheme

अक्सर देखा जाता है कि भारत के दूर-सदूर गांवों तक प्रभावी रूप डाक उत्पादों की सुविधाएँ नहीं मिल पाती हैं। इसका कारण लोगों में जागरूकता का आभाव या डाक विभाग की सक्रियता में कमी हो सकती है। 5 स्टार गाँव योजना से इन कमियों को दूर करने का प्रयास किया जायेगा।

देश में इस योजना को पहले एक पायलेट प्रोजेक्ट के तौर पर शुरू किया जायेगा। महाराष्ट्र के 10 जिलों को प्रारंभिक ट्रायल के लिए चुना गया है। प्रत्येक जिले के 5 गांवों को चिन्हित करके कुल 50 गांवों को शामिल करने लक्ष्य है। योजना की सफलता के बाद इसे पूरे देश में शुरू किया जायेगा।

डाक विभाग इस योजना के माध्यम से गावों को वन स्टार, टू स्टार, थ्री स्टार, फोर स्टार और फाइव स्टार का दर्जा देगी। जो गाँव जितनी डाक सुविधाओं से जुड़ा होगा, उसी आधार पर स्टार तय किया जायेगा। ऐसा करने से सभी सुदूर गांवों तक आधारभूत डाक बचत सुविधाओं को पहुँचाने का स्तर तय करने में आसानी होगी।

पांच सितारा गांवों की योजना का उद्देश्य

इस योजना का मुख्य उद्देश्य ग्रामीण क्षेत्रों तक डाक विभाग की बचत योजनाओं और सुविधाओं का लाभ पहुँचाना है। जिससे देश के सुदूर गांवों तक भी जन जागरूकता और गांवों का विकास सुनिश्चित होगा। गांवों के विकास के साथ साथ देश में डाक विभाग को और सक्रियता देने से सरकारी योजनाओं का लाभ गाँव के लोगों तक पहुचने में आसानी होगी। इसके लिए डाक विभाग को ग्रामीणों के लिए वन स्टॉप सोल्युशन के लिए तैयार किया जायेगा।

पांच सितारा गांव योजना की मुख्य विशेषताएं

  • योजना का ट्रायल महाराष्ट्र के 50 गावों के साथ किया जायेगा। इसके दस जिलों के 5-5 गांवों को शामिल किया गया है।
  • योजना के अंतर्गत डाक विभाग ने सरकारी बीमा और बचत योजनों को शामिल किया गया है।
  • सभी गांवों में सुविधाओं के विपणन के लिए डाक विभाग के 5-5 कर्मियों की टीमें बनायीं जाएगी। इसकी निगरानी गांवों के नजदीकी पोस्ट ऑफिस के पोस्ट मास्टर दैनिक रूप से करेंगे।
  • योजना के प्रति जन जागरूकता फ़ैलाने के लिए घर घर जाकर प्रचार प्रसार किया जायेगा।
  • ग्राम पंचायत, स्कूल, औषधालय, बस डिपो, मेलों आदि का उपयोग करके विज्ञापन किया जायेगा।

Five Star villages Scheme Features

इस योजना के अंतर्गत निम्न योजनाओं को शामिल किया गया है। जो की केंद्र सरकार और भारतीय डाक विभाग के द्वारा चलायी गयी हैं।

1. सुकन्या समृद्धि योजना खाते / पीपीएफ खाते –

सुकन्या समृद्धि योजना केंद्र सरकार के द्वारा चलायी गयी छोटी बचत योजना है। यह योजना लड़कियों की शिक्षा और शादी-विवाह के लिए पैसा इकठ्ठा करने में मदद करती है। इसमें 8 प्रतिशत से जादा की व्याज प्रतिवर्ष मिलती है। इसे बेटी बचाओ बेटी पढाओ अभियान के तहत शुरू किया गया है। पीपीएफ खाता एक तरह का एफडी अकाउंट होता है। इसमें 1.5 लाख सालाना निवेश पर सेक्शन 80 c के तहत टैक्स में छूट मिलती है। 

2. बचत बैंक खाते, आवर्ती जमा खाते, एनएससी/केवीपी – 

बचत बैंक खातों पर 2.7 से 4 प्रतिशत तक या उससे जादा की व्याज दर सालाना मिलती है। आवर्ती जमा खाता आप बैंक या पोस्ट ऑफिस में खुलवा सकते हैं। इसमें आपको हर महीने कुछ निश्चित राशि जमा राशि पर बैंक अच्छी व्याज दर देता है।

NSC का मतलब होता है – नेशनल सेविंग सिर्टिफिकेट जबकि KVP किसान विकास पत्र को कहते हैं।

Five Star villages Scheme 2021

3. पोस्टल लाइफ इन्शुरन्स पालिसी/ग्रामीण डाक जीवन बीमा पालिसी –

पोस्टल लाइफ इन्शुरन्स पालिसी को एक तरह की बीमा पालिसी है। जिसमे 15 साल या 20 साल की पालिसी खरीदी जा सकती है। निश्चित अवधि के बाद 40 प्रतिशत तक बोनस मिलता है। ग्रामीण डाक जीवन बीमा पालिसी भारत की सबसे पुरानी जीवन बीमा पालिसी है।  इसे अंग्रेजो द्वारा 1884 में पहली बार शुरू किया गया था।

4. इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक सेविंग अकाउंट –

IPPB यानी इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक सेविंग अकाउंट भारतीय डाक द्वारा शुरू किया गया है। इसमें तीन तरह के रेगुलर, डिजिटल और बेसिक खाते शामिल हैं। इसमें सालाना 4 प्रतिशत तक का ब्याज मिलता है।

5. प्रधानमंत्री जीवन ज्योति योजना/ प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना के खाते – 

प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना (PMJJBY) में 330 रुपये सालाना जमा करने पर 2 लाख रुपये का मृत्यु बीमा सरकार देती है। इसकी योजना में 18 वर्ष से 50 वर्ष तक के लोगों को शामिल किया जाता है। प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना PMSBY में सिर्फ 12 रुपये सालाना प्रीमियम पर 2 लाख का दुर्घटना बीमा सरकार देती है।

इन पांच योजाओं को पांच सितारा गाँव योजना के तहत शामिल किया गया है। जो गाँव जितनी योजनाओं से जुड़ जायेगा, उसे उतने स्टार मिलेंगें। इस आधार पर तय होगा की कौन सा गाँव किस स्तर पर है। प्रत्येक गाँव उपर्युक्त 5 योजनों में से 4 में भाग ले सकता है। जो गाँव 4 योजनाओं से जुड़ा होगा उसे फोर स्टार और जो तीन सुविधाओं से जुड़ा होगा उसे थ्री स्टार का दर्जा मिलेगा।

Five Star Villages Scheme कैसे काम करेगी

  • फाइव स्टार गाँव योजना के सफल कार्यन्वाहन के लिए 5-5 ग्रामीण डाक कर्मचारियों की एक टीम बनायीं जाएगी।
  • इन्हें योजना के लिए प्रशिक्षण देकर तैयार किया जायेगा।
  • इसके बाद इन गामीण डाक सेवकों की टीम को एक एक गाँव का जिम्मा दिया जायेगा।
  • सभी टीमे घर घर जा कर योजना का प्रचार प्रसार करेंगी और लोगों को जागरूक करेंगी।
  • सभी कार्यों का दैनिक मूल्यांकन शाखा के पोस्ट मास्टर करेंगे।
  • प्रभागीय प्रमुख, निरीक्षक और सहायक अधीक्षक, योजना की निगरानी और प्लानिंग करेंगे।

⇓ आपके लिए स्पेशल ⇓

जाने किसान बिल के बारे में हिंदी में PDF Available

हर घर पानी हर घर सफाई मिशन क्या है?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *