Haryana Orbital Rail Corridor Latest News in Hindi | HORC Route Map Info & Total Distance Details Between Stations

केंद्र की मोदी सरकार ने 15 सितम्बर 2020 को हरियाणा ऑर्बिटल रेल कॉरिडोर परियोजना की शुरुआत की थी। इस परियोजना के अंतर्गत सोनीपत, सोहना, मानेसर और खरखौदा होकर जाने वाली रेलवे लाइन का निर्माण होने का प्रावधान किया गया है। केंद्र सरकार, इस प्रोजेक्ट को सफल बनाने के लिए अगले 5 सालों में 5617 करोड़ रुपये खर्च करेगी। इस रेलवे परियोजना के पूरे होने से हरियाणा के लोगों को बहुत लाभ होगा। आइये हरियाणा ऑर्बिटल रेल कॉरिडोर परियोजना से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारियों को विस्तार से समझते हैं –

Haryana Orbital Rail Corridor Project

HORC Latest News: दोस्तों आप को बता दें कि हरियाणा ऑर्बिटल रेल कॉरिडोर प्रोजेक्ट, केन्द्रीय आर्थिक मामलों के मंत्रिमंडल द्वारा 15 सितम्बर से अगले 5 सालों में पूरा होने के लिए प्रस्तावित है। यह परियोजना पूरी होने के बाद हरियाणा के विकास में और तेजी आने वाली है, क्यों कि इसके अंतर्गत 121.742 km लम्बी रेलवे लाइन बनायीं जाएगी।

Route Map – यह रेलवे लाइन पलवल स्टेशन से लेकर दिल्ली-हरियाणा खंड के हरसाना कला स्टेशन तक कनेक्ट होगी। इसके साथ साथ इस रेलवे लाइन का कनेक्शन दिल्ली-रिवाड़ी लाइन के पटली स्टेशन, गढ़ी हरसरू-फारुखनगर लाइन के सुल्तानपुर स्टेशन और दिल्ली-रोहतक लाइन पर स्थित असौधा स्टेशन तक किया जायेगा।

हरियाणा ऑर्बिटल रेल कॉरिडोर प्रोजेक्ट की खास बातें –

  • Haryana Orbital Rail Corridor Project का कार्यान्वयन हरियाणा रेल इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट कारपोरेशन (HRIDC) के द्वारा किया जायेगा। 
  • इस रेल परियोजना में केन्द्रीय रेल मंत्रालय, हरियाणा सरकार और निजी क्षेत्रों के ठेकेदारों की सयुक्त भूमिका होगी।
  • यह महत्वकांक्षी योजना 5 सालों में पूरी होने की सम्भावना है। जिसकी पूर्ण अनुमानित लागत करीब 5617 करोड़ रुपये होगी।
  • भारतीय रेलवे के हरियाणा आर्बिटल रेल कोरिडोर प्रोजेक्ट से परवल से सोनीपथ तक तक ट्रेन चलेंगी। जिससे हरियाणा के औद्योगिक विकास में तेजी आएगी।

Haryana Orbital Rail Corridor का उद्देश्य –

  • हरियाणा ऑर्बिटल रेल कॉरिडोर प्रोजेक्ट का उद्देश्य सोहना-मानेसर-खरखौदा होते हुए परवल से सोनीपथ तक रेलवे लाइन का निर्माण करना है। जिससे हरियाणा ऑर्बिटल में एक नया रास्ता बनने से सोनीपथ जाने वाली ट्रेने अब दिल्ली जाये बिना ही इस बाई पास से निकल जाएँगी। इस नए रेलवे लाइन के निर्माण से राजधानी दिल्ली के रेल यातायात मार्गों पर ट्रैफिक कम कम होगा।
  • इस रेलवे लाइन का दूसरा बड़ा उद्देश्य दिल्ली NCR और गुरुग्राम में नए औद्योगिक विकास का मंच खोलना है। जिससे make in India और आत्मनिर्भर भारत जैसे अभियानों को सफल बनाने में मदद होगी।

मोदी सरकार के हरियाणा ऑर्बिटल रेल कॉरिडोर प्रोजेक्ट के लाभ –

  • हरियाणा के स्थानीय जिलों जैसे पलवल, गुरुग्राम, झज्जर, सोनीपथ आदि को इस रेलवे लाइन के बनने से बहुत लाभ होगा।
  • इस प्रोजेक्ट के पूरा होने से दिल्ली के यातायात का डायवर्जन नहीं होगा।
  • हरियाणा राज्य के एनसीआर औद्योगिक उप क्षेत्रों को मल्टीमाडल लोजिस्टिक हब बनाने में यह प्रोजेक्ट मील का पत्थर साबित होगा।
  • यह प्रोजेक्ट एनसीआर से भारत के बंदरगाहों को रेलवे मार्ग से सीधा जोड़ेगा। जिससे विदेशी आयात-निर्यात में सुगमता और परिवहन लागत में कमी आएगी।
  • हरियाणा के स्थानीय लोगों को यातायात में सुगमता होगी। हरियाणा के उप मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला के मुताबिक इस लाइन के बनने से रोज 20 हजार से जादा लोग सफर कर सकेंगे।
  • इस परियोजना से हरियाणा में विभिन्न जिलों में विदेशी निवेश को बढ़ावा मिलेगा। जिससे लाखों नए रोजगार का सृजन होगा।
  • दिल्ली जाने वाले रेलवे मार्गों पर ट्रेनों का बोझ कम होगा।
  • प्रधानमंत्री के द्वारा चलाये गये अभियानों जैसे मेक इन इंडिया, आत्मनिर्भर भारत, डिजिटल इंडिया आदि को गति मिलेगी।
  • यह परियोजना हरियाणा के पिछड़े जिलों को मुख्य धारा में जोड़ कर उनका विकास सुनिश्चित करेगी।
  • सरकार का दावा है की इस मार्ग पर हर साल 50 मिलियन टन मॉल का आवागमन संभव होगा।

हरियाणा ऑर्बिटल रेल कॉरिडोर परियोजना की पृष्ठिभूमि क्या है ?

जैसा की आप जानते हैं गुरुग्राम और दिल्ली एनसीआर के औद्योगिक क्षेत्र भारत की अर्थव्यस्था में अहम् भूमिका निभाते हैं। मोदी सरकार ने इस क्षेत्र में विदेशी निवेशकों को आकर्षित करने के लिए कई परियोजना चलायी हैं। लेकिन इस परियोजनाओं को गति देने के लिए बुनियादी जरूरतों जैसे आयात-निर्यात की कनेक्टिविटी, यातायात के साधन आदि आवश्यक भूमिका निभाते हैं। इसलिए इस Haryana Rail Corridor Project को मोदी सरकार ने शुरू करने का फैसला लिया है। 

यह परियोजना दिल्ली क्षेत्र से भारतीय रेलवे नेटवर्क के बोझ कम करेगी। जिससे रेलवे यातायात ट्रैफिक कम होगा। साथ ही साथ इस रेलवे लाइन के आसपास के क्षेत्रों में औद्योगिक विकास तेजी से संभव होगा।

FAQ For Haryana Orbital Rail Corridor Project –

Q. हरियाणा ऑर्बिटल रेल कॉरिडोर प्रोजेक्ट कब शुरू हुआ ?

Ans. इस परियोजना की शुरुआत मोदी सरकार की कैबिनेट ने 15 सितम्बर 2020 को हरियाणा ऑर्बिटल रेल कॉरिडोर प्रोजेक्ट को मजूरी दी है।

Q. हरियाणा रेल परियोजना से नई रेल लाइन का निर्माण कहाँ होगा ?

Ans. हरियाणा ऑर्बिटल रेल कॉरिडोर परियोजना के द्वारा पलवल से लेकर असौधा स्टेशन तक रेलवे लाइन का निर्माण किया जायेगा।

Q. यह परियोजना कब तक पूरी हो जाएगी ?

Ans. सरकार इस परियोजना को अगले 5 सालों में पूरा करने का लक्ष्य रखती है। जिसमे 5617 करोड़ रूपए प्रस्तावित हैं।

⇓ आपके लिए स्पेशल ⇓

सरल पोर्टल हरियाणा (500 से जादा योजनाओं का लाभ एक ही वेबसाइट से)

सक्षम युवा भत्ता व मानदेय योजना 

स्टार्टअप इंडिया सीड फण्ड योजना (नए बिजनेस के लिए तुरंत लोन)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *