महात्मा गांधी नरेगा योजना राजस्थान, Job Card & Payment List 2022

राजस्थान में 2006 से ही महात्मा गाँधी नरेगा योजना की शुरुआत हुई थी। इस योजना की देश के सभी हिस्सों मे लागू करने के लिए राज्यवार विभाजित किया गया है। ऐसी ही इस योजना को राजस्थान की राज्य सरकार द्वारा भी संचालित किया जा रहा है। राजस्थान मे चलाई जाने वाली इस योजना के बारे मे हम इस आर्टिकल मे बताने जा रहे है।

महात्मा गाँधी नरेगा योजना राजस्थान –

राजस्थान में 2006 से ही इस योजना का संचालन किया जा रहा है। इस योजना के तहत पहले राज्य के बेरोजगार मजदूरों को 100 दिन की रोजगार गारंटी प्रदान की जाती थी। हालांकि अच्छी बात ये है कि इस योजना के तहत अब 150 दिन का रोजगार दिया जाता है।

योजना मे उन लोगो को शामिल किया जाता है जो राज्य मे गरीबी रेखा के नीचे जीवन यापन करते है। इसके साथ ही उन्हें इस काम के दोहरान यह सुनिश्चित किया जाता है कि उन्हें रोजगार भी दिया जा सके। इस योजना का संचालन भारत में ही नही बल्कि देश के अन्य राज्यों मे भी किया जाता है।

ये भी पढ़ें – श्रमिक कार्ड में कितने पैसे आ रहे हैं? 

राजस्थान मे नरेगा योजना की शुरुआत –

2005 मे शुरू की गई इस योजना का संचालन 2006 मे राजस्थान मे भी शुरु कर दिया था। इस योजना के तहत राज्य के लोगो को 150 दिवस का निश्चित रोजगार देने का उद्देश्य रखा गया था इसके साथ ही उन्हें दिन मे 6 घंटे काम करने  का मेहनताना भी दिया जाता है। इस योजना का संचालन वर्तमान मे भी किया जा रहा है।

महात्मा गांधी नरेगा योजना राजस्थान –

राजस्थान मे संचालित की जाने वाली इस योजना की शुरुआत 2006 मे राजस्थान मे की गई थी। इस योजना मे हिस्सा लेने या इस योजना का लाभ लेने के लिए कुछ सामन्य योग्यता है इसके साथ ही योजना के तहत कैसे आम नागरिक और श्रमिक इसका लाभ ले सकते है।

ये भी पढ़ें – ई श्रमिक कार्ड से पेंशन कैसे मिलती है? 

महात्मा गांधी नरेगा योजना की पात्रता –

  • इस योजना का लाभ लेने के लिए आवेदक राजस्थान का मूल निवासी होना चाहिए। हालांकि इस योजना का संचालन पुरे देश मे किया जा रहा है और अगर कोई देश के अन्य राज्य मे इस योजना का लाभ लेना चाहते है तो उसके लिए उस राज्य से जुड़ा मूल निवास प्रमाण पत्र देना होता है।
  • इसके अलावा इस योजना का लाभ लेने वाले लाभार्थी बीपील रेखा से नीछे जीवन यापन करने वाले होने चाहिए। इस योजना की शुरुआत केवल ऐसे ही लोगो के लिए की गई गई है जो जरूरतमंद है।

इसके अलावा इस योजना का लाभ लेने के लिए आवेदक के पास जॉब कार्ड बना हुआ होना चाहिए।

ये भी पढ़ें – देखें MGNREGA मजदूरी रेट लिस्ट 2022

नरेगा जॉब कार्ड बनवाने के लिए दस्तावेज –

इस योजना के तहत जॉब कार्ड बनवाने के लिए कुछ जरुरी दस्तावेज है जो की इस योजना के लिए आवश्यक है –

  • इस योजना से जुड़ा कार्ड बनवाने के लिए हमे सबसे पहले परिवार के उन सदस्यों के आधार कार्ड की जरूरत होती है जो इस योजना का लाभ लेना चाहते है।
  • इसके साथ ही इस योजना मे परिवार के मुख्या के नाम का कार्ड बनता है और उसमे परिवार के सभी सदस्यों का नाम जुड़ता है।
  • इसके अलावा जन आधार कार्ड की भी जरूरत होती है।
  • इसके साथ ही परिवार के मुखिया के नाम का भामाशाह कार्ड भी जरुरी है।

ये भी पढ़ें – नरेगा पेमेंट लिस्ट (भुगतान विवरण) 2022

राजस्थान में नरेगा जॉब कार्ड कैसे बनवाए?

  1. इसके लिए आपको सबसे पहले अपने डॉक्यूमेट लेकर अपने नजदीकी ग्राम पंचायत ऑफिस मे जाना होता है।
  2. इसके बाद यह सभी दस्तावेज आपको वहा जमा करवाने होते है और साथ ही इस कार्ड को बनवाने के लिए एक फॉर्म भरना होता है जिसमे सभी तरह की जानकारी भरनी होती है जैसे कार्ड किस नाम से बनाना है इत्यादि।
  3. अन्य डिटेल आप ऑफिसियल वेबसाइट nrega.raj.nic.in पर देख सकते हैं

इसके बाद आपका कार्ड बन कर तैयार हो जाता है और इस कार्ड की मदद से आप जॉब कार्ड की मदद से नरेगा मे` काम कर सकते है। इस तरह से इस योजना का लाभ ले सकते है।

महात्मा गांधी नरेगा योजना राजस्थान के फायदे –

  1. राज्य के लोगो को इस योजना के तहत 150 दिन का रोजगार दिया जाएगा।
  2. इसके अलावा इस योजना के तहत रोजगार के साथ आर्थिक मुहैया कराई जायेगी।

ये भी पढ़ें – मनरेगा में ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कैसे करें?

Leave a Comment