यूपी का मिशन शक्ति अभियान क्या है? जाने मिशन शक्ति कार्यक्रम की खास बातें

Mission Shakti Abhiyan की शुरुआत नवरात्र के दौरान की गयी थी। योगी सरकार के मिशन शक्ति अभियान का उद्देश्य उत्तर प्रदेश में महिला सुरक्षा, सम्मान और सशक्तिकरण के लिए सक्रीय नियम-कानून तैयार करना है। इस लेख में हमने इस अभियान से जुड़ी जरुरी बातें और सरकार द्वारा चलाये जा रहे मिशन शक्ति कार्यक्रमों की जानकारी आपके साथ साझा की हैं।

मिशन शक्ति अभियान –

उत्तर प्रदेश में हाथरस और बलरामपुर में घटित बलात्कार की घटनाओं ने राज्य सरकार पर महिलाओं की सुरक्षा पर सवाल खड़े कर दिए थे। इसी बीच मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 17 अक्टूबर 2020 को मिशन शक्ति अभियान को शुरू किया था।

मिशन शक्ति अभियान है क्या?

उत्तर प्रदेश में यह अभियान, सरकार द्वारा महिलाओं सुरक्षा, सम्मान और सशक्तिकरण को बढ़ाने के लिए चलाया जा रहा है। इस अभियान के अंतर्गत राज्य में महिलाओं व बालिकाओं के लिए विशेष प्रयास और नियम कानून तैयार किये गए हैं। यह अभियान अप्रैल 2021 तक जारी रखा जायेगा।

इस समय प्रदेश के समस्त 75 जनपदों, 521 ब्लॉकों, 59,000 पंचायतों, 630 शहरी निकायों और 1,535 थानों के माध्यम से अप्रैल 2021 तक मिशन मोड में चलाया जा रहा है। अभियान के अंतर्गत उत्तर प्रदेश के सभी 1535 पुलिस थानों में महिला पुलिसों को भी तैनात किया जायेगा। साथ ही महिला पीडिता के लिए थाने में अलग कमरों में महिला पुलिस कर्मियों द्वारा शिकायत पंजीकरण किया जायेगा।

मिशन शक्ति की नयी अपडेट 

  • मिशन शक्ति की सक्रियता और उत्तर प्रदेश पुलिस की ताबड़तोड़ कार्यवाही की वजह से अब तक कुल 3500 से भी जादा अपराधियों की गिरफ़्तारी हुई है।
  •  अभियान की शुरुआत से 24 मार्च, 2021 के बीच 12 आरोपितों को फांसी की सजा और 456 को आजीवन कारावास की सजा हो चुकी है।
  • उत्तर प्रदेश परिवहन विभाग की तरफ से महिलाओं को ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने में विशेष सुविधा मिलेगी।
  • महिलाओं को सड़क सुरक्षा के प्रति जागरूक बनाने के लिए महिला शक्ति मिशन के अंतर्गत जगह जगह शिविर लगाकर जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है।
  • मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश के सभी स्कूल, कालेजों में मिशन शक्ति कार्यक्रम को सक्रियता से पहुँचाने का आदेश दिया है।

 

मिशन शक्ति की नयी अपडेट 

  • मिशन शक्ति की सक्रियता और उत्तर प्रदेश पुलिस की ताबड़तोड़ कार्यवाही की वजह से अब तक कुल 3500 से भी जादा अपराधियों की गिरफ़्तारी हुई है।
  • उत्तर प्रदेश परिवहन विभाग की तरफ से महिलाओं को ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने में विशेष सुविधा मिलेगी।
  • महिलाओं को सड़क सुरक्षा के प्रति जागरूक बनाने के लिए महिला शक्ति मिशन के अंतर्गत जगह जगह शिविर लगाकर जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है।
  • मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश के सभी स्कूल, कालेजों में मिशन शक्ति कार्यक्रम को सक्रियता से पहुँचाने का आदेश दिया है।

मिशन शक्ति अभियान की खास बातें

  • महिला शक्ति मिशन, उत्तर प्रदेश की महिलाओं और बालिकाओं के सम्मान और सशक्तिकरण के लिए शुरू किया गया है।
  • अभी तक की सूचना के अनुसार यह अभियान अप्रैल तक चलेगा।
  • इस अभियान के तहत हर महीने, एक-एक सप्ताह के लिए जन जागरूकता अभियान चलाया जायेगा।
  • महिला पुलिस कर्मियों की टीम सभी थानों में मौजूद होगी।
  • प्रदेश के 1535 थानों में महिलाओं की शिकायतों पर त्वरित कार्यवाही के लिए अलग रूम की व्यवस्था होगी।
  • महिलाओं की शिकायतें महिला पुलिस ही सुनेंगी।
  • मिशन शक्ति के तहत एंटी रोमिओ स्क्वायड, यूपी पुलिस 112 और महिला हेल्प लाइन 1090 को कारवाही करने का अधिकार होगा।
  • प्रदेश सरकार के अनुसार मिशन शक्ति अभियान के तहत आने वाले कुछ सालों में 20 प्रतिशत महिला पुलिसों की भर्तियाँ होंगी।
  • मनचलों और अपराधियों के खिलाफ कार्यवाही के साथ साथ उनका सामाजिक बहिष्कार और उनके पोटर चौराहों पर लगेंगे।

योगी सरकार की सभी योजनाओं की सूची देखें 

Uttar Pradesh के Mission Shakti का असर –

योगी सरकार प्रदेश में महिला सुरक्षा, सम्मान और सशक्तिकरण के लिए प्रतिबद्ध है। मिशन शक्ति, एंटी रोमिओ स्क्वायड, महिला हेल्प लाइन और अन्य प्रयासों से महिलाओं के खिलाफ होने वाले अत्याचार कम हुए हैं, लेकिन ख़त्म नहीं हुए हैं।

अक्सर देखा जाता है कि कोई बड़ी घटना होने के बाद सरकार कुछ समय इस तरह के नियमों को लाती है। लेकिन इस तरह के प्रयासों में निरंतरता और सक्रीय प्रशिक्षण न होने के कारण इनका असर जादा दिन तक नहीं होता है। इसलिए सरकार को नए नियम बनाने के साथ साथ उनपर अमल भी करना सुनिश्चित करना होगा।

मिशन शक्ति के सफलता के विभिन्न आयाम –

उत्तर प्रदेश में बालिकाओं और महिलाओं की सुरक्षा, सम्मान और सशक्तिकरण के लिए मिशन शक्ति अभियान के कई आयाम देखने को मिल रहे हैं। चाहे महिला शक्ति को सचेत करने वाले जन जागरूकता कार्यक्रम हो या विभिन्न प्रोत्साहन सम्मलेन सभी का उद्देश्य इस अभियान को नए आयाम देना है।

मिशन शक्ति को बल देने के लिए बड़े बड़े पोस्टर और निबंध प्रतियोगिताएं आदि करवाई जा रही हैं। वहीँ दूसरी तरफ उत्तर प्रदेश में पुलिस भर्ती में महिलाओं की विशेष भर्ती से अभियान सफलता के नए आयाम छू रहा है।

FAQ –

मिशन शक्ति अभियान का उद्देश्य क्या है?

इस मिशन का उद्देश्य उत्तर प्रदेश की महिलाओं और बालिकाओं को सम्मान, सुरक्षा और सशक्तिकरण दिलाना है।

मिशन शक्ति अभियान का शुभारम्भ कब हुआ?

UP Mission Shakti की शुरुआत 17 अक्टूबर 2020 को नवरात्र के दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के द्वारा हुई थी।

मिशन शक्ति अभियान से जुड़ने के लिए क्या करें?

उत्तर प्रदेश के सभी इच्छुक लोग मिशन शक्ति अभियान का प्रचार प्रसार करने के लिए सोशल मीडिया या अन्य जन जागरूकता कार्यक्रमों के माध्यम से जुड़ सकते हैं।

 

⇓ ये जानकारियां भी पढ़ें ⇓

UP Ration card download कैसे करें?(नयी लिस्ट जारी)

सवर्ण आरक्षण प्रमाण पत्र आवेदन प्रक्रिया 

उत्तर प्रदेश मिशन रोजगार अभियान (50 लाख नौकरियां)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *