(ताजा न्यूज) यूपी का मिशन शक्ति अभियान क्या है? जाने मिशन शक्ति कार्यक्रम की खास बातें

Mission Shakti Abhiyan की शुरुआत उत्तर प्रदेश में साल 2020 नवरात्र के दौरान की गयी थी। योगी सरकार के मिशन शक्ति अभियान का उद्देश्य उत्तर प्रदेश में महिला सुरक्षा, सम्मान और सशक्तिकरण के लिए सक्रीय नियम-कानून तैयार करना है। इस लेख में हमने इस अभियान से जुड़ी जरुरी बातें और ताजा अपडेट की जानकारी दी है –

मिशन शक्ति अभियान उत्तर प्रदेश –

उत्तर प्रदेश में हाथरस और बलरामपुर में घटित बलात्कार की घटनाओं ने राज्य सरकार पर महिलाओं की सुरक्षा पर सवाल खड़े कर दिए थे। इसी बीच मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 17 अक्टूबर 2020 को मिशन शक्ति अभियान को शुरू किया था।

यूपी में मिशन शक्ति अभियान का तीसरा चरण हुआ शुरू 

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा मिशन शक्ति अभियान का तीसरा चरण 21 अगस्त 2021 से चल रहा है। ताजा अपडेट के मुताबिक, तीसरे चरण में विभिन्न कार्यक्रमों के माध्यम से जन जागरूकता कार्यक्रम प्रदेश के सभी जिलों में आयोजित किये जा रहे हैं।

मिशन शक्ति कार्यक्रम अंतर्गत निर्भया-एक पहल अंतर्गत महिला जागरूकता, दक्षता कौशल विकास प्रशिक्षण, महिला उद्यमिता हेल्पलाईन-180020126844 व वेबसाइट www.msmemissionshakti.in का शुभारंभ

अभियान की ताजा न्यूज़ –

  • पीलीभीत जिले में मिशन शक्ति के अंतर्गत जिला प्रशिक्षण संस्थान में जन जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया। 
  • गाजीपुर जिले में मिशन शक्ति अभियान के तहत तीन दिवसीय कौशल प्रशिक्षण कार्यक्रम की शुरुआत की गयी है, इसमें जनपद की 1000 महिलाओं को प्रशिक्षित किया जाएगा
  • हाल में ही महिलाओं को स्वरोजगार के लिए प्रेरित करने के लिए कार्यक्रम के अंतर्गत निर्भया-एक पहल महिला जागरूकता, दक्षता कौशल विकास प्रशिक्षण, महिला उद्यमिता हेल्पलाईन-180020126844 व वेबसाइट www.msmemissionshakti.in का शुभारंभ भी किया गया है। 
  • उन्नाव जिले का सेवाखेड़ा गांव मिशन शक्ति अभियान, बेटी बचाओ अभियान के प्रयासों से अब दहेज़ मुक्त बन चुका है।  
  • मिशन शक्ति के पहले और दूसरे चरण के दौरान बेहतर कार्य करने वाली 75 महिला अधिकारियों और कर्मचारियों को पुरस्कृत भी किया गया है।
  • पुरस्कार पाने वाली महिलाएं यूपी के 45 जिलों से चयनित हुई हैं।

इन्हें भी पढ़ें 

👉 सवर्ण आरक्षण प्रमाण पत्र आवेदन प्रक्रिया जाने

👉 उत्तर प्रदेश मिशन रोजगार अभियान ऐसे करें आवेदन

तीसरे चरण के मिशन शक्ति कार्यक्रम की मुख्य बातें –

  • महिला ग्राम प्रधानों को मिशन शक्ति अभियान से जोड़ा गया
  • कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री निराश्रित महिला पेंशन योजना के तहत 29.68 लाख लाभार्थियों को 451 करोंड़ दिए गए।
  •  मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना के तहत 1 लाख 55 हजार बेटियों को मिले 30.12 करोड़ रुपये
  • प्रदेश के 59 हजार ग्राम पंचायत भवनों में एक कक्ष मिशन शक्ति कार्यक्रम के लिए निर्धारित किया गया।
  • उत्तर प्रदेश के 1286 थानों में पिंक टॉयलेट व महिला बीट पुलिस भी तैनात रहने का फैसला लिया गया।
  • मिशन शक्ति अभियान के अंतर्गत जल्द ही यूपी में महिला बटालियन के 2982 पदों पर विशेष भर्ती शुरू की जायेगी।
  • सभी पुलिस लाइन में बालवाड़ी क्रेंच की स्थापना करने का फैसला लिया गया है

मिशन शक्ति अभियान है क्या?

उत्तर प्रदेश में यह अभियान, सरकार द्वारा महिलाओं सुरक्षा, सम्मान और सशक्तिकरण को बढ़ाने के लिए चलाया जा रहा है। इस अभियान के अंतर्गत राज्य में महिलाओं व बालिकाओं के लिए विशेष प्रयास और नियम कानून तैयार किये गए हैं। यह अभियान अप्रैल 2021 तक जारी रखा जायेगा।

इस समय प्रदेश के समस्त 75 जनपदों, 521 ब्लॉकों, 59,000 पंचायतों, 630 शहरी निकायों और 1,535 थानों के माध्यम से अप्रैल 2021 तक मिशन मोड में चलाया जा रहा है। अभियान के अंतर्गत उत्तर प्रदेश के सभी 1535 पुलिस थानों में महिला पुलिसों को भी तैनात किया जायेगा। साथ ही महिला पीडिता के लिए थाने में अलग कमरों में महिला पुलिस कर्मियों द्वारा शिकायत पंजीकरण किया जायेगा।

दूसरे व पहले चरण में दिखा मिशन शक्ति का असर – 

  • मिशन शक्ति की सक्रियता और उत्तर प्रदेश पुलिस की ताबड़तोड़ कार्यवाही की वजह से अब तक कुल 3500 से भी जादा अपराधियों की गिरफ़्तारी हुई है।
  •  अभियान की शुरुआत से 24 मार्च, 2021 के बीच 12 आरोपितों को फांसी की सजा और 456 को आजीवन कारावास की सजा हो चुकी है।
  • उत्तर प्रदेश परिवहन विभाग की तरफ से महिलाओं को ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने में विशेष सुविधा मिलेगी।
  • महिलाओं को सड़क सुरक्षा के प्रति जागरूक बनाने के लिए महिला शक्ति मिशन के अंतर्गत जगह जगह शिविर लगाकर जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है।
  • मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश के सभी स्कूल, कालेजों में मिशन शक्ति कार्यक्रम को सक्रियता से पहुँचाने का आदेश दिया है।

 

मिशन शक्ति अभियान करेगा महिलाओं को सुरक्षित –

  • मिशन शक्ति की सक्रियता और उत्तर प्रदेश पुलिस की ताबड़तोड़ कार्यवाही की वजह से अब तक कुल 3500 से भी जादा अपराधियों की गिरफ़्तारी हुई है।
  • उत्तर प्रदेश परिवहन विभाग की तरफ से महिलाओं को ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने में विशेष सुविधा मिलेगी।
  • महिलाओं को सड़क सुरक्षा के प्रति जागरूक बनाने के लिए महिला शक्ति मिशन के अंतर्गत जगह जगह शिविर लगाकर जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है।
  • मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश के सभी स्कूल, कालेजों में मिशन शक्ति कार्यक्रम को सक्रियता से पहुँचाने का आदेश दिया है।

मिशन शक्ति अभियान की खास बातें

  • महिला शक्ति मिशन, उत्तर प्रदेश की महिलाओं और बालिकाओं के सम्मान और सशक्तिकरण के लिए शुरू किया गया है।
  • अभी तक की सूचना के अनुसार यह अभियान अप्रैल तक चलेगा।
  • इस अभियान के तहत हर महीने, एक-एक सप्ताह के लिए जन जागरूकता अभियान चलाया जायेगा।
  • महिला पुलिस कर्मियों की टीम सभी थानों में मौजूद होगी।
  • प्रदेश के 1535 थानों में महिलाओं की शिकायतों पर त्वरित कार्यवाही के लिए अलग रूम की व्यवस्था होगी।
  • महिलाओं की शिकायतें महिला पुलिस ही सुनेंगी।
  • मिशन शक्ति के तहत एंटी रोमिओ स्क्वायड, यूपी पुलिस 112 और महिला हेल्प लाइन 1090 को कारवाही करने का अधिकार होगा।
  • प्रदेश सरकार के अनुसार मिशन शक्ति अभियान के तहत आने वाले कुछ सालों में 20 प्रतिशत महिला पुलिसों की भर्तियाँ होंगी।
  • मनचलों और अपराधियों के खिलाफ कार्यवाही के साथ साथ उनका सामाजिक बहिष्कार और उनके पोटर चौराहों पर लगेंगे।

योगी सरकार की सभी योजनाओं की सूची देखें 

Uttar Pradesh के Mission Shakti का असर –

योगी सरकार प्रदेश में महिला सुरक्षा, सम्मान और सशक्तिकरण के लिए प्रतिबद्ध है। मिशन शक्ति, एंटी रोमिओ स्क्वायड, महिला हेल्प लाइन और अन्य प्रयासों से महिलाओं के खिलाफ होने वाले अत्याचार कम हुए हैं, लेकिन ख़त्म नहीं हुए हैं।

अक्सर देखा जाता है कि कोई बड़ी घटना होने के बाद सरकार कुछ समय इस तरह के नियमों को लाती है। लेकिन इस तरह के प्रयासों में निरंतरता और सक्रीय प्रशिक्षण न होने के कारण इनका असर जादा दिन तक नहीं होता है। इसलिए सरकार को नए नियम बनाने के साथ साथ उनपर अमल भी करना सुनिश्चित करना होगा।

मिशन शक्ति के सफलता के विभिन्न आयाम –

उत्तर प्रदेश में बालिकाओं और महिलाओं की सुरक्षा, सम्मान और सशक्तिकरण के लिए मिशन शक्ति अभियान के कई आयाम देखने को मिल रहे हैं। चाहे महिला शक्ति को सचेत करने वाले जन जागरूकता कार्यक्रम हो या विभिन्न प्रोत्साहन सम्मलेन सभी का उद्देश्य इस अभियान को नए आयाम देना है।

मिशन शक्ति को बल देने के लिए बड़े बड़े पोस्टर और निबंध प्रतियोगिताएं आदि करवाई जा रही हैं। वहीँ दूसरी तरफ उत्तर प्रदेश में पुलिस भर्ती में महिलाओं की विशेष भर्ती से अभियान सफलता के नए आयाम छू रहा है।

FAQ –

मिशन शक्ति अभियान का उद्देश्य क्या है?

इस मिशन का उद्देश्य उत्तर प्रदेश की महिलाओं और बालिकाओं को सम्मान, सुरक्षा और सशक्तिकरण दिलाना है।

मिशन शक्ति अभियान का शुभारम्भ कब हुआ?

UP Mission Shakti की शुरुआत 17 अक्टूबर 2020 को नवरात्र के दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के द्वारा हुई थी।

मिशन शक्ति अभियान से जुड़ने के लिए क्या करें?

उत्तर प्रदेश के सभी इच्छुक लोग मिशन शक्ति अभियान का प्रचार प्रसार करने के लिए सोशल मीडिया या अन्य जन जागरूकता कार्यक्रमों के माध्यम से जुड़ सकते हैं।

👉 UP राशन कार्ड खोजें  – Fcs.up.gov.in 2021

2 thoughts on “(ताजा न्यूज) यूपी का मिशन शक्ति अभियान क्या है? जाने मिशन शक्ति कार्यक्रम की खास बातें”

  1. धरातल पर इस मिशन का कोइ ख़ास असर नहीं दिख रहा। जिला प्रतापगढ के महिला थाना में सैकड़ों की संख्या में कोर्ट द्वारा गैर जमानती वारंट जारी किए गए लेकिन गिरफ्तारी न के बराबर हों रही है।

    Reply
    • बिल्कुल सही कहा आपने, राज्य सरकार को इस अभियान को और विस्तृत रूप में समाज तक पहुँचाना चाहिए

      Reply

Leave a Comment