निपुण भारत मिशन क्या है? डाउनलोड करें गाइडलाइन pdf 2022

भारत में लागू की गई नई शिक्षा नीति को सही रूप से क्रियान्वित करने के लिए केंद्र सरकार द्वारा निपुण भारत मिशन योजना चलाई जा रही है। इस योजना के तहत देश के स्कूलों में सक्षम वातावरण का निर्माण किया जाएगा ताकि नई शिक्षा नीति का संचालन सही ढंग से किया जा सके।

निपुण भारत मिशन योजना के तहत भारत में शिक्षा के लिए आधारभूत साक्षरता और संख्यात्मकता से ज्ञान को छात्रों को प्रदान किया जा सकेगा। इस पूरी योजना का क्रियान्वयन भारत में स्कूल शिक्षा और साक्षरता विभाग द्वारा किया जा रहा है। यह निपुण योजना भारत में साक्षरता शिक्षा का एक अहम हिस्सा होगी।

निपुण भारत मिशन 2022 –

भारत में शिक्षा नीति को सही ढंग से क्रियान्वित करने के लिए इस निपुण भारत मिशन योजना की शुरुआत की है। इस निपुण मिशन योजना के तहत भारत में राज्य और केंद्र शासित प्रदेशों में 5 स्तरीय तंत्र स्थापित किया जाएगा। यह सभी 5 स्तरीय तंत्र कुछ इस प्रकार से होगा।

  • राष्ट्रीय स्तर
  • राज्य स्तर
  • जिला स्तर
  • ब्लाक स्तर
  • स्कूल स्तर

इस योजना का क्रियान्वयन इन्ही 5 स्तरों के तहत होगा। वही भारत में पहले से लागू हुई शिक्षा नीति को सफल बनाने और उसके सफलतापूर्वक क्रियान्वयन के लिए इस योजना का शुभारम्भ किया गया है।

ये पढ़ें – आयुष्मान कार्ड कैसे बनवाएं?

योजना का नाम NIPUN Bharat
योजना का प्रकार केंद्र सरकार योजना
आरम्भ की तिथि 5 जुलाई 2021
आधिकारिक वेबसाइट education.gov.in
निपुण भारत गाइडलाइन्स open

निपुण भारत मिशन में साक्षरता और संख्यामकता का प्रकार –

मुलभुत भाषा और साक्षरता – 

इस योजना के तहत इन मूलभूत भाषाओँ और साक्षरता पर ध्यान दिया जाएगा –

  • शब्दावली
  • रीडिंग कंप्रीहेंशन
  • पठन प्रवाह
  • प्रिंट के बारे में अवधारणा
  • मौखिक भाषा का विकास
  • धवनियात्मक जागरूकता
  • डिकोडिंग
  • लेखन
  • कल्चर ऑफ रीडिंग

ये पढ़ें – किसान कर्ज माफी योजना की लिस्ट

मूलभूत संख्यामकता और गणित कौशल – 

NIPUN योजना के तहत इन मूलभूत संख्य्तामकता और गणित कौशल पर ध्यान दिया जाएगा –

  • गणितीय तकनीकें
  • मापन
  • आकार एवं स्थानिक समाज
  • पूर्व संख्या अवधारणाएं
  • नंबर एंड ऑपरेशन ऑन नंबर
  • पैटर्न

यह वो गणित के पैटर्न है जो इस योजना के तहत लागू किये जायेंगे।

निपुण भारत मिशन का पूरा नाम –

NIPUN योजना का पूरा नाम National Initiative for Proficiency in Reading with Understanding and Numeracy (बेहतर समझ और संख्यात्मक ज्ञान के साथ पढ़ाई में प्रवीणता के लिये राष्ट्रीय पहल) है।

NIPUN योजना का उद्देश्य –

  • छात्रों के अंदर साक्षरता एवं संख्यामक्त के ज्ञान को विकसित करना।
  • कक्षा 3 तक के बच्चों को पढने, लिखने एवं अंकगणित के बारे में समझाने में मदद करना।
  • बच्चों को नई शिक्षा नीति के बारे में समझना और सिखाना।
  • तीसरी कक्षा के बच्चों को बच्चे संख्या, माप और आकार के तर्क के बारे में समझाना और इसके बारे में सिखाना।

ये पढ़ें – श्रमिक कार्ड कैसे बनाएं?

निपुण भारत मिशन के भाग –

NIPUN योजना के कुछ भाग भी यह है जिनके माध्यान से बच्चों को स्कूल के आने से पहले और स्कूल के दौरान बताया जाएगा।

  • परिचय
  • मूलभूत भाषा और साक्षरता को समझना
  • मूलभूत संख्यामकता और गणित कौशल
  • योग्यता आधारित शिक्षा की ओर स्थानांतरण
  • लर्निंग एसेसमेंट
  • शिक्षण -अधिगम प्रक्रिया: शिक्षक की भूमिका
  • शिक्षा और सीखना: बच्चों की शिक्षा के बारे में सीखने की क्षमता और विकास पर ध्यान
  • स्कूल की तैयारी
  • राष्ट्रीय मिशन: पहलू एवं दृष्टिकोण
  • मिशन की सामरिक योजना
  • दीक्षा/NDEAR: का लाभ उठाना: डिजिटल संसाधनों का भंडार
  • माता पिता एवं सामुदायिक जुड़ाव
  • मिशन कार्यान्वयन में विभिन्न हितग्राहीको की भूमिका
  • SCERT और DIET के माध्यम से शैक्षणिक साहित्य
  • निगरानी और सूचना प्रौद्योगिकी ढांचा
  • मिशन की स्थिरता
  • अनुसंधान, मूल्यांकन एवं दस्तावेजी करण की आवश्यकता

मूलभूत भाषा और साक्षरता की आवश्यकता – 

इस NIPUN योजना के शुरुआत की आवश्यकता क्यों पड़ी ? इसके भी कई कारण है –

  • बेहतर भविष्य के लिए छात्रों को शुरुआत में ही शिक्षा और अंकगणित के बारे में सीखना ताकि भविष्य में शिक्षा मजबूत हो सके।
  • छात्रों में शुरुआत से ही शिक्षा का इतना ज्ञान भर देना ताकि उनकी साक्षरता विकास नीव मजबूत हो सके।

ये पढ़ें – वन नेशन वन राशन कार्ड कैसे बनेगा?

प्रारंभिक शिक्षा में आवश्यकता – 

  • बच्चों में पढाई की समझ पैदा करना।
  • कक्षा में लिखने की अवधारणा को बढ़ाना।

मूलभूत शिक्षा के घटक – 

  • मौखिक भाषा का विकास
  • रीडिंग कंप्रीहेंशन
  • धावनी के माध्यम से जागरूकता
  • डिकोडिंग
  • पढ़ने का प्रभाव
  • प्रिंट के बारे में अवधारणा
  • लेखन
  • शब्दावली
  • पढ़ने की संस्कृति

प्रारंभिक गणित के घटक – 

प्रारंभिक गणित के भी यह कुछ सामान्य घटक है, जिसके बारे में समझा जा सकता है –

  • फ्री नंबर अवधारणाएं
  • पैटर्न
  • डाटा संधारण
  • नंबर एंड ऑपरेशन ऑन नंबर
  • आकार एवं स्थानिक समझ
  • माप तोल
  • गणितीय संचार

ये पढ़ें – अग्निपथ योजना आर्मी Online Form, Exam Date

योग्यता शिक्षा की और स्थानांतरण – 

शिक्षा नीति में ज्ञान, कौशल और दृष्टिकोण का वर्णन करने वाले मुख्य कथनों को ही योग्यता आधारित शिक्षा कहते हैं। शिक्षा में योग्यता आधारित स्थानांतरण के माध्यम से छोटी कक्षा के छात्रों को एक विशेष असाइनमेंट, कक्षा, पाठ्यक्रम या कार्यक्रम के अंत में पता चलता है कि उनके द्वारा प्राप्त किए गए कौशल से उनको उनकी शिक्षा के तौर पर क्या लाभ होगा।

योग्यता आधारित शिक्षा की विशेषता – 

योग्यता आधारित शिक्षा की कुछ विशेषता इस प्रकार है –

  • योग्यता के आधार पर बच्चों को शिक्षा का अनुभव देना।
  • योग्यता के आधार पर मापने और सीखने के बारे में बताना।
  • इस पद्धति के साथ ही आलोचनात्मक सोच एवं समस्या समाधान दृष्टिकोण को भी योग्यता आधारित शिक्षा के माध्यम से बच्चो की शिक्षा के दोहरान विकसित किया जा सकता है।

शिक्षा एवं सीखने की प्रक्रिया के कुछ प्रमुख पहलू एवं मुख्य घटक – 

  • शैक्षणिक अभ्यास
  • योजना गतिविधियां
  • शिक्षकों द्वारा प्रदान किया गया सक्षम वातावरण
  • विभिन्न सीखने की सुविधाएं
  • कॉन्टेंट
  • सीखने का वातावरण
  • पूर्व में योजना बनाना

ये पढ़ें – प्रधानमंत्री कन्या धन योजना

NIPUN भारत योजना के हितधारक –

NIPUN भारत योजना के लिए यह कुछ निम्न हितधारक है. जो की इस प्रकार है –

  • नेशनल काउंसिल ऑफ एजुकेशनल रिसर्च एंड ट्रेनिंग
  • राज्य एवं केंद्र शासित प्रदेश
  • डिस्ट्रिक्ट इंस्टिट्यूट ऑफ़ एजुकेशन एंड ट्रेनिंग
  • डिस्ट्रिक्ट एजुकेशन ऑफिसर एवं ब्लॉक एजुकेशन ऑफिसर
  • ब्लॉक रिसोर्स सेंटर तथा क्लस्टर रिसोर्स सेंटर
  • हेड टीचर
  • Non-government ऑर्गेनाइजेशन
  • सिविल सोसायटी ऑर्गेनाइजेशंस
  • स्कूल मैनेजमेंट कमिटी
  • सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन
  • केंद्रीय विद्यालय संगठन
  • स्टेट काउंसिल ऑफ एजुकेशनल रिसर्च एंड ट्रेनिंग
  • वॉलिंटियर
  • कम्युनिटी एवं पेरेंट्स
  • प्राइवेट स्कूल

ये पढ़ें – SBI ट्रेक्टर लोन योजना 2022

Leave a Comment