प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना आवेदन, Online फॉर्म – PMMSY 2021

प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना की शुरुआत प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 10 सितम्बर 2020 को की थी। इस योजना से देश में मछली उत्पादन में 2 गुनी बढ़ोत्री के साथ-साथ 55 लाख लोगों को रोजगार मिलने की सम्भावना है। इस लेख में हमने मत्स्य सम्पदा योजना आवेदन, ऑनलाइन फॉर्म व लाभ पाने सम्बन्धी जरुरी जानकारियां आप तक पहुँचाने का प्रयास किया है। पूरी जानकारी के लिए हमारे साथ इस लेख में बने रहिये।

प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना है क्या? – 

आपको बता दें कि मत्स्य सम्पदा योजना (PMMSY) किसानों और जलीय व्यापर से जुड़े लोगों के लिए एक महत्वपूर्ण योजना है। मोदी सरकार ने इस योजना को सफल बनाने के लिए 20050 करोड़ रुपये का बजट पास किया है। जो कि मछली उत्पादन क्षेत्र का अब तक का सबसे बड़ा फंड है। इस योजना से किसानों और मछुआरों की आय दुगनी करने की दिशा में अच्छी बढ़त मिलने की उम्मीद है।

pmmsy

Overview of the Article

योजना का नाम प्रधानमंत्री मतस्य सम्पदा योजना
कब शुरू हुई 10 सितम्बर 2020
मंत्रालय मत्स्य पालन, पशुपालन और डेयरी मंत्रालय भारत सरकार
ऑफिसियल वेबसाइट pmmsy.dof.gov.in
लाभ मछली पालन से जुड़े किसानों को आर्थिक सहायता

 

नयी अपडेट –

मोदी सरकार देश में मछली उत्पादन क्षेत्र में देश को आत्मनिर्भर बनाने के लिए इस योजना पर विशेष बल दे रही है। विदेशी निर्यात में बढ़ोत्री व किसानों की आय दोगुनी करने के उद्देश्य से अब इस योजना के तहत मछली उत्पादन के लिए इच्छुक किसानों को सरकार द्वारा लोन की सुविधा भी दी जा रही है। मत्स्य क्षेत्र से जुड़े किसान, KCC यानी किसान क्रेडिट कार्ड पर 3 लाख रुपये का लोन 4 प्रतिशत ब्याज पर ले सकते हैं। आपको बता दें कि किसान क्रेडिट कार्ड अब मछली उत्पादन क्षेत्र से जोड़ दिया गया है। इसलिए इसका लाभ मतस्य क्षेत्र के किसान मछुवारों को जरुर मिल सकता है।

प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना आवेदन –

मछली पालन से जुड़े जो किसान अपने व्यापार और मछली पालन के लिए आवश्यक आधारभूत आवश्यकताओं के लिए लोन लेना चाहते हैं वे मत्स्य विभाग कि ऑफिसियल वेबसाइट पर जा कर ऑनलाइन आवेदन सम्बन्धी सूचना देख सकते हैं।

प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना का उद्देश्य

  • मतस्य व्यापर क्षेत्र में भारत के निर्यात को दोगुना बढ़ाना।
  • मत्स्य सम्पदा योजना के माध्यम से 55 लाख नए रोजगार के अवसर पैदा करना।
  • मछुआरों और मत्स्य उत्पादन से जुड़े किसानों की आय दोगुनी करना।
  • किसान क्रेडिट कार्ड के माध्यम से किसानों को 3 लाख का लोन मुहैय्या करवाना।
  • मछली उत्पादन क्षेत्र में किसानों को आधुनिक तकनीक का उपयोग करने के लिए प्रेरित करना।
  • ई गोपाला ऐप की मदद से किसानों को पशुधन से जुड़े ई मार्केट प्लेस और नई जानकारियों से जोड़ना।

प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना की खास बातें

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आत्मनिर्भर भारत अभियान को शुरू करने के बाद एक से बढ़ कर एक योजनाएं शुरू की। इसी क्रम में प्रधानमंत्री मत्स्य सम्पदा योजना की शुरुआत की। केंद्र सरकार की यह योजना मत्स्य क्षेत्र की अब तक की सबसे जादा बजट वाली योजना है। इस योजना की निम्न ख़ास बातें हैं –

  • केंद्र सरकार ने इस योजना के लिए 20050 करोंड़ रुपये प्रस्तावित किये हैं। जिसमे से 12340 करोंड़ रूपए एक्वाकल्चर और मरीन इनलैंड फिशरीज में और 7710 करोड़ रुपये फिसरीज इंफ्रास्ट्रक्चर को तैयार करने में उपयोग किये जायेंगें।
  • प्रधानमन्त्री मत्स्य सम्पदा योजान का लाभ सिर्फ मत्स्य व्यापर से जुड़े किसानों और मछुआरों को मिलेगा।
  • PMMSY का लक्ष्य अगले पांच सालों में 70 लाख टन मछली उत्पादन में वृद्धि करना है। जो की वर्तमान उत्पादन का दो गुना होगा।
  • मत्स्य सम्पदा योजना से 55 लाख नए रोजगार की सम्भावना है। जो की मछुआरों की आय दुगनी करने में मील का पत्थर साबित हो सकता है।
  • 2024 से 2025 तक भारत को इस योजना की मदद से 1 लाख करोड़ रुपये की आय होने की सम्भावना है।

कुसुम सोलर पम्प योजना

मत्स्य सम्पदा योजना के लाभ –

  • प्रधानमंत्री मत्स्य सम्पदा योजना से मत्स्य व्यापर से जुड़े किसानों को सीधा लाभ होगा।
  • योजना से अगले 5 सालों में 55 लाख से जादा मत्स्य पालन से जुड़े लोगों को रोजगार मिलेगा।
  • अगले 3 से 4 सालों में भारत मछली उत्पादन में 2 गुनी वृद्धि कर सकता है।
  • प्रधानमन्त्री मत्स्य सम्पदा योजना से मछली उत्पादन में क्रांति आएगी और विकास होगा।
  • किसानों को प्राकृतिक आपदाओं से हुए नुकसान की भरपाई सरकार की इस योजना के माध्यम से होगी।

ई गोपाला मोबाइल ऐप –

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मतस्य सम्पदा योजना के साथ, ई-गोपाला मोबाइल ऐप भी लांच किया। उन्होंने कहा की ई गोपाला मोबाइल ऐप एक ऐसा डिजिटल माध्यम होगा, जिससे पशुधन रखने वाले किसान भाइयों को अछे किस्म के पशुधन चुनने में आसानी होगी। इस मोबाइल ऐप की मदद से किसान बिचौलियों से बचेंगे।

यह ऐप पशुपालन से जुड़े सभी भाइयों बहनों के लिए पशुओं की देख-रेख और खान-पान से जुडी जरुरी जानकारियां भी देगा। ई गोपाला ऐप किसानों के लिए बहुत महत्वपुर्ण होने वाला है। किसान भाई इस ऐप को जरुर डाउनलोड करें।

प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना हाइलाइट्स –

10 सितम्बर 2020 को प्रधानमंत्री मत्स्य सम्पदा योजना और ई गोपाला ऐप को लॉच करते हुए प्रधानमंत्री ने कई अहम बातें कहीं थी –

  • प्रधानमंत्री ने कहा सरकार के द्वारा शुरू की गयी योजनाओं का लक्ष्य 21 सदी के भारत को आत्मनिर्भर और सक्षम बनाना।
  • प्रधानमन्त्री ने कहा कि ब्लू रेवोलुशन (मछली पालन से जुड़े काम), वाइट रेवोलुशन (यानि दुग्ध उत्पादन से जुड़े काम) और स्वीट रेवोलुशन मतलब (शहद उत्पादन से जुड़े काम) किसानों को बहुत लाभ पंहुचा सकते हैं। सरकार प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना जैसी योजनाओं से इन क्षेत्रों में क्रांति लाना चाहती है। 
  • प्रधानमंत्री ने मत्स्य सम्पदा योजना को लॉच करते हुए कहा की आज यह योजना 21 राज्यों में लागू होने जा रही है।
  • इसके लिए कुल 20000 करोड़ रुपये अगले 5 सालों में खर्च होंगे। जिसमे से 1700 करोड़ रुपये आज ही रिलीज किये गए हैं।
  • प्रधानमंत्री मत्स्य सम्पदा योजना से आधुनिक उपकरण, नया मार्केट और नया इंफ्रास्ट्रक्चर बनेगा। जिससे लोगों को लाभ जरुर होगा।
  • प्रधानमंत्री ने कहा इस योजना को देश के विभिन्न नदियों और समुद्रों में मत्स्य पालन की संभावनाओं को देखते हुए इस योजना की रुपरेखा तैयार की गयी है।
  • ई गोपाला मोबाइल ऐप की शुरुआत करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा इस ऐप की मदद से किसानों को अछे किस्म के पशुधन खरीदने और उनके पोषण से सम्बंधित जानकारियां उनके मोबाइल पर मिल ही जाएगी। जिससे वह किसी तरह के दलाल के चक्कर में नहीं फसेंगे।
  • ई गोपाला ऐप में पशुधन की उत्पादकता, स्वास्थ्य और आहार से जुड़ी जानकारियां किसानों को देगा।
  • प्रधानमंत्री ने कहा समय के साथ साथ गांवों में भी फ़ूड प्रोसेसिंग और उनके रिसर्च सेंटर खुलेगें। जिससे जय किसान, जय विज्ञान और जय अनुसन्धान की बात सच होगी।

खादी अगरबत्ती आत्मनिर्भर मिशन 2021

Leave a Comment