ये करते ही हो जाएगा विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना में आपका Registration, मिलेंगे ये लाभ

विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना: मजदूरों के विकास के लिए केंद्र सरकार और राज्य सरकार द्वारा कई तरह की योजनायें चलाई जाती है। ऐसी ही एक योजना की शुरुआत उत्तर प्रदेश में शुरू की गई है। इस योजना के तहत उत्तर प्रदेश राज्य में मजदूरों को पहले 6 दिवस का प्रशिक्षण दिया जायेगा ताकि वो अपना खुद का काम शुरू कर सके। इस आर्टिकल में इसी योजना के बारे में विस्तार से समझाया जाएगा की इस विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना में कौन आवेदन कर सकता है? और यह योजना में के फायदे क्या है इत्यादि। 

विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना –

उत्तर प्रदेश राज्य में लागू इस योजना के तहत राज्य के उन मजदूरों को जिनको जरूरत है, उन्हें सरकार द्वारा पहले 6 दिवस तक निःशुल्क तक प्रशिक्षण दिया जाएगा। इसके बाद योजना के तहत मिलने प्रशिक्षण की आधार पर स्वरोजगार कर सकते हैं, जिसमे आवश्यक आर्थिक सहायता भी सरकार द्वारा की जाती है। 

इस प्रशिक्षण के तहत वे अपना खुद का कौशल बढ़ा सकते है और साथ ही अपना खुद का काम शुरु कर के रोजगार प्राप्त कर सकते है दूसरों को भी रोजगार दे सकते है। इस योजना की शुरुआत का उद्देश्य कोरोना काल में अपना काम और मजदूरी छोड़ के वापस घर आये है उन्हें इस योजना का लाभ दिया जाएगा। 

ये पढ़ें – खोजें UP राशन कार्ड लिस्ट 2022

योजना का नाम विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना
योजना की शुरुआत किसके द्वारा की गई श्रम मंत्रालय उत्तर प्रदेश
योजना के लाभार्थी उत्तर प्रदेश के मजदूर
योजना में आवेदन की प्रक्रिया ऑनलाइन
उद्देश्य श्रमिकों के कौशल में वृद्धि करना
लाभ 6 दिवस का प्रशिक्षण देना
योजना की आधिकारिक वेबसाइट www.diupmsme.upsdc.gov.in

योजना के तहत दिया जाएगा आर्थिक लाभ –

परिक्षण देने के बाद और उत्तर प्रदेश राज्य में पारंपरिक कारीगरों और और शिल्परों जैसे मजदूरों को परिक्षण के दौरान और उसके बाद काम करने हेतु यानी खुद का व्यवसाय शुरू करने के लिए उन्हें आर्थिक लाभ दिया जाएगा। 

इस योजना के तहत 10 हजार से 10 लाख तक का आर्थिक लाभ दिया जाएगा ताकि इन पैसों से वो अपना व्यवसाय शुरू कर सकते है। यह सहायता राशि लोन के तहत दी जायेगी जिन्हें उन्हें वापस लौटाना होगा। इन पैसों का इस्तेमाल अपना व्यवसाय शुरु करने के लिए किया जा सकता है। 

ये पढ़ें – सोलर रूफटॉप सब्सिडी योजना से ऐसे लगवाएं सोलर सिस्टम

विश्वकर्मा के लिए आवेदन कैसे करें?

इस योजना के तहत आवेदन करने के लिए आपको इस प्रोसेस को फॉलो करना होता है जो की इस प्रकार है –

विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना

  • सबसे पहले आपको इस योजना की ऑफिसियल वेबसाइट पर आना होता है। 
  • इसके बाद इस वेबसाइट पर आने के बाद इसमें आपको नबीन पंजीकरण पर क्लिक कर के अपना रजिस्ट्रेशन करना होगा। 
  • इसके बाद इसमें रजिस्टर करने के बाद वापस इसी वेबसाइट पेज पर लॉग इन का आप्शन होता है, उसकी मदद से लॉग इन करना होता है। 
  • इसमें लॉग इन करने के बाद इसमें विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना से जुड़ा आप्शन मिल जाता है। उसकी मदद से आप इसमें फॉर्म भरके आवेदन कर सकते है और साथ ही जरुरी दस्तावेजों को अपलोड करना होता है।

इस प्रोसेस को करने के बाद आपका ऑनलाइन पंजीकरण हो जाएगा।

ये पढ़ें – बीसी सखी योजना ऑनलाइन फॉर्म कैसे भरें?

विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना के उद्देश्य –

राज्य में लागू इस योजना के कुछ उद्देश्य मुख्य है जो इस योजना को एक लाभकारी और कल्याणकारी योजना बनाते है 

  • इस योजना के तहत राज्य में आर्थिक रूप से कमजोर लोगो को परिक्षण देना और उनके कौशल को उच्च स्तर का बनाना। 
  • इसके साथ राज्य के ग्रामीण और हस्तशिल्प कार्यो और उद्योगों को बढ़ावा देना है। 
  • सरकार इस योजना के तहत उन्हें 6 दिवस का प्रशिक्षण देगी जिसके बाद वे अपना खुद का बिज़नस या व्यवसाय शुरू कर सकते है।

विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना के मापदंड (पात्रता) –

राज्य में लागू इस इस योजना के लिए कुछ निर्धारित मापदंड है जिसके आधार पर ही इस योजना में कैंडिडेट का चयन किया जात है।

  • इस योजना के तहत आवेदन करने वाले आवेदन की आयु कम से कम 18 साल होना जरुरी है। 
  • आवेदक उत्तर प्रदेश राज्य का मूल निवासी होना जरुरी है। 
  • इस योजना में किसी भी तरह की शैक्षिणक योजना की आवश्यकता नही है। 
  • इस योजना का लाभ एक परिवार में से केवल एक ही लाभार्थी ले सकते है, उससे ज्यादा नही। 

ये पढ़ें – अग्निपथ योजना आर्मी Online Form कैसे भरें?

योजना में Registration करने हेतु कुछ जरुरी दस्तावेज –

  • आवेदक का आधार कार्ड 
  • आवेदक का पहचान पत्र 
  • निवास प्रमाण पत्र 
  • जाति प्रमाण पत्र
  • बैंक खाते की पासबुक

यह सभी दस्तावेज इस योजना के तहत आवेदन करने के लिए जरुरी है।

विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना के लाभ –

  • इस योजना के तहत राज्य के बढ़ई, दर्जी, टोकरी बुनकर, नाई, सुनार, लोहार, कुम्हार, हलवाई, मोची और हस्तशिल्प इत्यादि के कौशल के बारे में सिखाया जाएगा। 
  • इसके साथ ही इस योजना के तहत 6 दिन का प्रशिक्षण दिया जाएगा ताकि कार्मिकों को इस योजना के तहत लाभ दिया जाएगा। 
  • युवाओं को कौशल के बारे में सिखाने के साथ ही रोजगार के अवसर भी दिए जायेंगे। 

ये पढ़ें – आधार कार्ड लोन योजना 2022

Leave a Comment